उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन महत्त्वपूर्ण नोट्स

 उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन  महत्त्वपूर्ण नोट्स

  • उत्तरांचल पृथक राज्य की मांग सर्वप्रथम उठाई गयी :- 1938 में 
  • 1938 में देवसुमन ने दिल्ली में पृथक राज्य की मांग को लेकर गढ़देश सेवा का गठन किया, जिसका नाम बाद में हो गया
    हिमालय सेवा संघ
  • हिमाचल और उत्तरांचल को मिलाकर एक वृहद् हिमालयी राज्य बनाने के उद्देश्य से पर्वतीय विकास जन समिति नामक संगठन का गठन किया गया – 1950 
  • 1967 में रामनगर में पृथक राज्य हेतु पर्वतीय राज्य परिषद का गठन किसकी अध्यक्षता में किया गया :- दया कृष्ण पाण्डेय
  • प्रताप सिंह नेगी नरेंद्र सिंह बिष्ट को शामिल करते हुएपर्वतीय राज्य परिषदका पुनर्गठन करपृथक पर्वतीय राज्यपरिवद गठित किया गया:- 1973 में
  • 1970 में कम्यूनिष्टो द्वारा पृथक राज्य हेतु गठित किया गया :- कुमाऊँ राष्ट्रीय मोर्चा
  • 1972 में नैनीताल में गठित उत्तरांचल परिषद के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली स्थित वोट क्लब पर धरना दिया और नारा दिया :दिल्ली चलो
  • पृथक राज्य हेतु 1976 में उत्तराखण्ड युवा परिषद का गठन किया गया। इस परिषद के सदस्यों ने संसद के घेराव का प्रयास किया :-1978 में
  • 8 पर्वतीय जिलों की मिलाकर एक राज्य गठित करने के उद्देश्य से डॉ. देवीदत्त पंत की अध्यक्षता में मंसूरी में उत्तराखण्ड क्रांति दल का जन्म हुआ :- 25 जुला. 1979 को
  • उत्तराखण्ड क्रांति दल के किस सदस्य ने अप्रैल 1987 में संसद में पत्र बम फेंका था :- त्रिवेन्द्र पवार ने
  • भाजपा के शोबन सिंह जीना की अध्यक्षता में उत्तरांचल उत्थान परिषद का गठन किया गया :- 30-31 मई 1988 को
  • पृथक राज्य आन्दोलन से सम्बंधित सभी संगठनों को मिलाकरउत्तरांचल संयुक्त संघर्ष समिति का गठन द्वारिका प्रसाद उनियाल के नेतृत्व में किया गया11-12 जन. 1989 को
  • 1990 में उत्तराखण्ड क्रांति दल के विधायक के रूप में .प्र. विधानसभा में उत्तराखण्ड राज्य से सम्बंधित प्रथम प्रस्ताव किसने रखा :- जसवंत सिंह बिष्ट ने
  • पृथक उत्तराखण्ड राज्य को सर्वप्रथम किस राष्ट्रीय पार्टी ने अपने घोषणापत्र में शामिल किया :- भाजपा ने
  • बामपंथी लोगों द्वारा 1991 में गठित किया गया:- उत्तरखण्ड मुक्ति मोर्चा
  • जुलाई, 1992 में उक्रांद ने पृथक राज्य के सम्बंध में एक महत्वपूर्ण दस्तावेज जारी किया तथा गैरसैंण को प्रस्तावित राज्य की राजधानी घोषित किया गया। इस दस्तावेज को कहा जाता है :- उक्रांद का पहला ब्लू प्रिंट
  • 21 जुलाई, 1992 को काशी सिंह एरी ने गैरसैंण में प्रस्तावित राजधानी की नींव डाली उसका नाम रखाचंद्रनगर
  • 1993 में मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने राज्य की संरचना और राजधानी पर विचार करने के लिए गठित की थीकौशिक समिति की
  • कौशिक समिति ने अपनी रिपोर्ट (1994) में कहाँ राजधानी बनाने की सिफारिश की :- गैरसैंण में
  • जून, 1994 में मुलायम सिंह यादव सरकार द्वारा सरकारी नौकरियों में 50% सीटें आरक्षित घोषित करने के बाद पौढ़ी के वयोवृद्ध नेता इंद्रमणि बडोनी (उत्तराखण्ड के गांधी) ने किया :- आमरण अनशन
  • 1 सितम्बर, 1994 के खमीटा गोलीकांड को, जिसमें कि लगभग 25 लोग मारे गये थे, उत्तराखण्ड के इतिहास में जाना जाता है :- काला दिवस के रूप में
  • 2 अक्टूबर, 1994 को दिल्ली में होने वाले रैली में भाग लेने जाते समय रामपुर तिरोहे (मुजफ्फनगर) पर .प्र. पुलिस द्वारा काला दिवस के रूप में राज्य आंदोलनकारियों महिलाओं के साथ अमानुषिक व्यवहार किया गया। 6 लोग शहीद हो गये। इस घटना को कहा गया :- क्रूरशासक की क्रूर साजिश
  • लाल किले की प्राचीर से किस प्रधानमंत्री ने सर्वप्रथम उत्तराखंड के गठन की घोषणा की? एच. डी. देवगौड़ा (15-8-1996 को)
  • केन्द्र में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा .प्र. पुनर्गठन विधेयक 2000′ 27
    जुलाई, 2000 को लोकसभा में प्रस्तुत किया गया। इसे 1 अगस्त, 2000 को लोक सभा द्वारा तथा 10 अगस्त 2000 को राज्यसभा द्वारा पारित किया गया। इस विधेयक को राष्ट्रपति के.आर. नारायणन ने 28 अगस्त को अपनी मंजूरी दी और 9 नवम्बर, 2000 को उत्तरांचल का गठन किया है। दिसम्बर, 2006 में इसका नाम बदलकर कर दिया गया :- उत्तराखण्ड
  • राजधानी विवाद पर विराम लगाते हुए 3 नव. 2012 को मुख्यमंत्री बहुगुणा ने गैरसैंण में मंत्रिपरिषद की बैठक आयोजित की और विधानसभा भवन बनाने का निर्णय लिया।
  • 14 जन, 2013 को मुख्यमंत्री बहुगुणा ने भराणीसैंण में प्रस्तावित द्वितीय विधानसभा हेतु गैरसैंण में औपचारिक शिलान्यास किया, जबकि 9 नव. 2013 को भराणीसैंण में भूमि पूजन कर भवन निर्माण शुरू कराया।
  • उल्लेखनीय है कि जम्मूकश्मीर महाराष्ट्र में भी दोदो विधानसभा भवन हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top